saanjh aai

Just another weblog

60 Posts

146 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14516 postid : 1293569

करुणाप्रवण

Posted On 15 Nov, 2016 कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

हे पुरुषोत्तम !
हे महामेरु तुम अचल -अटल
अब हरो हरी जीवन का तम !
है मात्र यही अब लक्ष्यस्थल ,
निर्वाण तीर्थ -पादारविन्द ।
हे पद्मक्षेत्र के देव पुरुष
त्रिभुवन सुन्दर ,हे परमेश्वर ।
जीवन – रथ – रज्जु तुम्हारे कर ।
मन – प्राण – हृदय स्पंदित है
दुर्लघ्य कष्ट से लो उबार
हे ऊर्ध्वबाहु , हे कमलनयन ।
है अभिनंदन ।
उत्कल में दर्शन करते ही
दु:ख -शोक – दर्द सब भूल गई ।
कितनी बातें लेकर आई
लख जगमोहन छवि विसर गई
स्तंभीभूत हुई निरखूँ अमृतमय हो आनंद पुलक ।।

शकुन्तला मिश्रा

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
November 16, 2016

प्रिय शकुन्तला जी बहुत प्यारी (सुंदर ) कविता

    shakuntlamishra के द्वारा
    February 25, 2017

    शोभा जी आभार |


topic of the week



latest from jagran