saanjh aai

Just another weblog

60 Posts

146 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14516 postid : 1225835

मन विहंग

Posted On 9 Aug, 2016 कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मन का विहंग
नभ निस्तरंग
उड़ते प्रतिपल
भावो के दल
छलता है नित
तम शेष जाल
चेतन विहीन अपना ही मन
नित ही निज से प्रतिरोध करे
घटता क्षण -क्षण मानव जीवन
यह सत्य जान कर भी अजान ||

shakuntla mishra

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Jitendra Mathur के द्वारा
August 31, 2016

गागर में सागर है यह लघु कविता । हार्दिक अभिनंदन आदरणीया शकुंतला जी ।

    shakuntlamishra के द्वारा
    September 22, 2016

    आभार जितेन्द्र जी


topic of the week



latest from jagran