saanjh aai

Just another weblog

60 Posts

146 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 14516 postid : 932318

देखने चली ....

Posted On: 7 Jul, 2015 Others,कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

देखने चली एक दिन साँझ ,
विभु की रचना का सृंगार !
थम गए नयन क्षितिज को देख
दिखा गुम्फित दिनकर एक और !
एक पल भूल गई संसार ,
नहाईं सुधा वृष्टि आपूर !
भेद कर सिन्दूरी आकाश
छिप गया नभ में कज्जल बीच
!
आ गई रजनी खोले केश ,
देखने आई थी एक साँझ

शकुन्तला मिश्रा -देखने चली



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran